Monday , February 19 2018
Home / जबलपुर / बिना पुलिस की 100 डायल

बिना पुलिस की 100 डायल

वाहन छोड़ घर में आराम फरमा रही पुलिस                                                                                                                                                    100 डायल से नही थम रहे अपराध                                                                                                                                                          अवैध वसूली की भी मिल रही शिकायतें                                                                                                                                                अधिकारी भी नही कर रहे निगरानी                                                                                                                                                          100 डायल सेवा हुयी अराजक                                                                                                                                                               हड़कंप एक्सप्रेस जबलपुर | शहर और गली मुहल्लों में होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाने की मंशा से 100 डायल की व्यवस्था की गयी है, जिसका मूल उद्देश्य है कि वह सडक पर तैनात रहकर जहां भी कोई घटना घटित होती है तो वहां तत्काल पहुंचकर आम जनता में सुरक्षा का आभास जगायेगी, हांलाकि ऐसा कुछ दिन हुआ भी लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता जा रहा है वैसे ही डायल 100 का भी हाल बेहाल होता जा रहा है, यदि जल्दी इस ओर ध्यान नहीं दिया गया तो वह दिन दूर नहीं जब इस योजना के धराशायी होते देर नहीं लगेगी और शासन का मकसद ऐसे में कैसे कामयाब होगा जब बिना पुलिस की डायल 100 यहां-वहां जब तब खाली तैनात नजर आएगी, ऐसा ही एक नाजारा हमारे संवाद दाताओं ने कटनी रोड सिहोरा स्थित खितौला थाने के अंतर्गत चलने वाली डायल 100 देखी जो कि खाली लावारिस हालत में खड़ी थी जिसमे न तो कोई पुलिस कर्मी और न ही उसे चलाने वाला ड्रायवर उसमें मौजूद था, जब हमारे संवाद दाताओं ने इस बात की तस्दीक की तो पता चला कि इसमें तैनात सारे पुलिस कर्मी पास ही एक मकान में आराम फरमा रहे है।                                                                                  चेहरा बदला पुलिस नहीं                                                                                                                                                              हांलाकि शासन ने आम लोगों को हो रहे अपराधों व घटनाओं में फौरी राहत दिलाने की मंशा से विगत कुछ वर्षों पूर्व 100 डायल के नाम योजना शुरू की, जिसमें थाने में तैनात पुलिस के जवानों को ही इस योजना की जवाबदारी सौंपी गई थी,जिससे पुलिस का चेहरा तो बदल गया पर पुलिस नहीं बदली, जिससे यह योजना कुछ सालों में फ्लाप होती नजर आ रही है।                                                                               थानों में तैनात पुलिस करती है वसूली                                                                                                                                             सभी थानों में तैनात पुलिस कर्मी सहित प्रभारी, एसआई, एएसआई सभी कर्मी सिर्फ उसी मामलों में कार्रवाई करते है जिसमें उन्हें मोटी रकम वसूलने करने का मौका मिलता हो, वरना शिकायत दर्ज कर, फरियादी को चलता करती देती है पुलिस। हांलाकि आज अंगुली पर गिने जाने वाले आरक्षक व अधिकारी अब भी ईमानदार है जिनकी वजह पुलिस नाक बची हुई है।

About Deepak Bhojak

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *